वह रुका पल कोई घर है कहीं

वह रुका पल कोई घर है कहीं

Monday, May 16, 2005

सोमवार

पिछले हफ्ते के आंरभ में खराब मौसम और तेज हवा चलने की संभावना सुनी थी , हवा तो कुछ तेज थी और थोड़ी बारिश भी हुई पर सप्ताह के अंत में धूप अच्छी रही, रविवार को मैं बगीचे के एक कोने में जमीन की खुदाई करता रहा, हमारा विचार है कि उस जगह को समतल कर वहाँ एक लकड़ी का सायबान बनाएँगे.

शनिवार को माइकेल पेलिन ने शहर में हॉलबॉर्न संग्रहालय में एक नई इमारत का उदघाटन किया, हमें एक निमंत्रण आया तो मैं भी सपरिवार चला गया, मौसम अच्छा था एक तस्वीर भी माइकेल पेलिन के साथ हो गई उसने कहा
... ha a north pole smile ! (उसकी एक किताब का नाम है Pole to Pole ,1992) यूँ तो वह अभिनेता (मोंटी पाइथन ) के रूप में जाना जाता है पर इधर हाल के बरसों में बीबीसी ने उसे यायावर भी बना दिया!

अभी फिर कुछ धूप है, थोड़ी हवा भी, पेड़ कुछ सुस्ती के साथ हरियाली को झूला दे रहे हैं, सोमवार जो है आज !
16.5.05

No comments: