वह रुका पल कोई घर है कहीं

वह रुका पल कोई घर है कहीं

Monday, June 20, 2005

हिन्दी

'बिग ब्रदर' को भी हिन्दी आती है पर मशीनी हिन्दी
उसे आती है हिन्दी पर

वो हृदयहीन है !
मुझे मालूम है
वह रक्तहीन है
हमारे ही झूठों से जीवित है
हमारी ही धड़कनों में छुपा
हमारे ही कानों से सुनता
हमारी ही आँखों से देखता
हमारे ही स्पर्श से छूता
उसे हिन्दी आती है
ना उसमें कोई व्याकरण की
ना मात्रा की गलती
जरा भी चूक नहीं
जरा भी हिचकिचाहट नहीं


20.6.05 © मोहन राणा