वह रुका पल कोई घर है कहीं

वह रुका पल कोई घर है कहीं

Friday, July 15, 2005

दरवाजा

स्टेशन के दरवाजे के सामने
दरवाजा है हमारा
बस निकलते ही सामने है,
स्टेशन पर पहुँचते ही
बहुत दूर नहीं


15.7.05 © मोहन राणा