वह रुका पल कोई घर है कहीं

वह रुका पल कोई घर है कहीं

Wednesday, September 07, 2005

पहचान पत्र

धीरे धीरे चलती है इंतजार की घड़ी
और समय भागता है समय की परछाईयों में
रोशनी के छद्म रुपों में,
मैंने चुना है यह मुखौटा
केवल पहचान पत्र के लिए


© 8.9.05 मोहन राणा