वह रुका पल कोई घर है कहीं

वह रुका पल कोई घर है कहीं

Thursday, September 29, 2005

पतझर

जिस पार्क में दौड़ रही दुनिया
उसके किनारे खड़ा मैं पतझर