वह रुका पल कोई घर है कहीं

वह रुका पल कोई घर है कहीं

Friday, December 02, 2005

चश्मा


कभी कभी लगाता हूँ
पर खुदको नहीं
औरों को देखने के लिए लगाता हूँ चश्मा,
कि देखूँ मैं कैसा लगता हूँ उनकी आँखों में
उनकी चुप्पी में,
कि याद आ जाए तो उन्हें आत्मलीन क्षणों में मेरी भी
आइने में अपने को को देखते,
मुस्कराहट के छोर पर.

2.12.05 © मोहन राणा