वह रुका पल कोई घर है कहीं

वह रुका पल कोई घर है कहीं

Saturday, January 21, 2006

सुबह सुबह


बदली चादर आकाश ने