वह रुका पल कोई घर है कहीं

वह रुका पल कोई घर है कहीं

Friday, May 09, 2008

खोज

एक खिड़की खोली
दूसरी खोली
दिखा कुछ और


दृश्य का नया कोण
खोली तीसरी
उसी दृश्य में दिखा नया धरातल
व्योम
खोली चौथी


घुस आया जैसे विहंगम कमरे में
इतना कुछ यहीं एक जगह
पर इतने व्यस्त की देख नहीं पाता
किसी मुक्ति की खोज में
दौड़ते दौड़ते
कि लगता है डर
ठहरने पल भर के लिए
गिरने से



(C) मोहन राणा 25.3.08