वह रुका पल कोई घर है कहीं

वह रुका पल कोई घर है कहीं

Monday, September 15, 2008

गिरने की आवाज

कविता कहती है पेड़ों से छनती हुई रास्ते पर गिरती रोशनी को छुओ