वह रुका पल कोई घर है कहीं

वह रुका पल कोई घर है कहीं

Tuesday, March 10, 2009

तिब्बत



"तिब्बत की आजादी भारत की सुरक्षा".. यह कहते हुए उगिन हँस पड़ता है. जैसे अचानक उसे कुछ याद आया पहले इस बोध पर विस्मय और फिर उसी पल खगोलीय वास्तविकताओं की पहचान कर एक उदासी.