वह रुका पल कोई घर है कहीं

वह रुका पल कोई घर है कहीं

Thursday, July 30, 2009

कल परसों कि आज

मेज पर सामान पड़ा है, कतरनें,
पुरानी होती रसीदें और चुपके से जमा होती धूल.
इतने दिन हो गए कि हर रोज.
मैंने डाकिये से कहा होने वाली है बारिश
सड़क के दूसरी ओर ही रहना वरना भीग जाओगे.
अब इस गीली चिठ्ठी को कहाँ रखूँ


















© मोहन राणा