वह रुका पल कोई घर है कहीं

वह रुका पल कोई घर है कहीं

Sunday, May 23, 2010

विज्ञापन


रद्दी में गई लिफाफों में बदल गई कविताओं का
विशेष संग्रह यहाँ उपलब्ध है








©