वह रुका पल कोई घर है कहीं

वह रुका पल कोई घर है कहीं

Friday, January 27, 2012

नीलाकाश















बारिश हो रही है कहते ही
रुक जाती एक वाक्य जितनी लंबी,
अपने ही अनुभव पर होने लगता है अविश्वास
चमकते नीलाकाश को देख


©

No comments: