वह रुका पल कोई घर है कहीं

वह रुका पल कोई घर है कहीं

Monday, May 08, 2017

रोशनी को जमा करते

कटोरा जब भर जाएगा
तप कर


Thursday, May 04, 2017

बजरंगी पट्टा

रंग एक है पर  विचार अलग
भारत में साम्यवादी लाल बत्ती की बैटरी अमेरिकन है
फिर अफवाह सुनी थी कि ओबामा भी चालीसा गुटका जेब में रखते थे
और लगता है श्रीमती मे भी रखने लगेंगी  
गर  मैक्रॉन ने सोमवार को पेरिस में हुँकार दी
और अगले सप्ताह से  पाउंड बाजार में लुढ़कने लगा तो
बारह कोने हैंं पाउंड के नए सिक्के में
पर परिस्थितियाँ केवल दो दशाएँ बताती हैं
अच्छी या बुरी
यूँ एक नजर में दूर सिक्का गोल ही दिखता है
हथेली पर एक पल को इस अचरज को थोड़ा वक्त लगेगा
पुराना पड़ने में  जैसा जीवन में होता आया है
पुराने को ही भूलने में

हनुमान त्रियुगी त्रिकाल दृष्टि ..an extraterrestrial
भाषा के भूगोल में अलख
जो याद बस इतना ही अब तलक

फिर भी  सवाल मुझ से पूछा ही जाता है
दोनों का रंग लाल है

©  2017

Tuesday, April 25, 2017

दैनिक जागरण में समीक्षा

कविता संग्रह  "शेष अनेक" की  दैनिक जागरण में  स्मिता   की लिखी समीक्षा।























शेष अनेक (कविता संग्रह)

प्रकाशक -

कॉपर कॉइन पब्लिशिंग 

Sunday, April 09, 2017

Language Barriers, Language Futures

On 14th March 2017, I was in a panel discussion at 'The EnglishPen Literary Salon' in London Book Fair 2017.

On Stage with Somrita Ganguly, Bidisha Mamata,Mohan Rana, Arunava Sinha, and
Jonathan Morley.